Latest Bacchon Ki Kahaniya 2021

बिना गर्दन वाली लड़की

बिना गर्दन वाली लड़की  Latest Bacchon Ki Kahaniya 2021


दोस्तों, आज में आपको एक Bacchon Ki Kahaniya बताने जा रहा हु जो की बिना गर्दन वाली लड़की नाम से है तो चलिए बिना देरी करते हुए स्टोरी शुरू करते है |

आज हम जिस कहानी के बारे में जानने वाले हैं उस कहानी की मुख्य किरदार है सुधा । सुधा एक अनाथ लड़की है। जिसे मंदिर के पुजारी बहुत ही लाड और प्यार से पालते हैं। वैसे तो सुधा बहुत ही सुशील और संस्कारी है , परंतु उसकी गर्दन आम लड़कियों की गर्दन से बहुत ही छोटी होती है इसलिए मोहल्ले के सारे लोग उसे बिना गर्दन वाली लड़की बोलते है।

Bacchon Ki Kahaniya

सुधा अपना ज्यादातर समय मंदिर में ही व्यतीत करती है। 1 दिन सुधा जब मंदिर में भजन गा रही होती है तभी वहां पर एक अमीर व्यक्ति पहुंचता है , वह सुधा की मधुर आवाज सुनकर बहुत ही प्रसन्न हो जाता है। वह मन ही मन सोचता है कि अगर इससे मेरे बेटे अमन की शादी हो जाए तो कितना अच्छा हो , इससे मेरा बेटा अमन और उसकी मां प्रेमा दोनों ही सुधर जाएंगे। पंडित जी से सुधा के बारे में और जानने के बाद वह घर पर चला जाता है

Short Stories in Hindi

कुछ दिनों बाद वह मंदिर के पुजारी के साथ मिलकर सुधा और अमन की शादी तय कर देता है। वैसे शादी से अमन और प्रेमा खुश नहीं होते हैं , लेकिन अमर की जिद के सामने कुछ नहीं कर पाते हैं। कुछ दिनों बाद उनकी शादी आ जाती है। शादी के दिन , वरमाला के समय जैसे ही अमन सुधा के गले में वरमाला डालने के लिए आगे बढ़ता है वह हंसने लगता है और बोलता है  तुम्हारी तो गर्दन ही नहीं मैं वरमाला किधर डालूं लेकिन वहां फिर भी सुधा के गले में वरमाना डालता है , किंतु वरमाला खिसककर नीचे चली जाती है ,यह देखकर सारे लोग हंसने लगते हैं |

Hindi Kahaniya

अमन जैसे तैसे माला सुधा के गले में डालता है और दोनों की शादी संपन्न हो जाती है। शादी के अगले ही दिन सुधा सुबह-सुबह मंदिर में भजन गाने लगती है। उसकी आवाज सुनकर प्रेमा वहां पर पहुंच जाती है और कहने लगती है यह सुबह-सुबह तुमने क्या लगा रखा है मेरी नींद खराब कर दी। सुधा बोलती है " माजी क्या आपको भजन अच्छा नहीं लगा"? तभी वहां पर सुधा के ससुर अमर पहुंचते हैं और बोलते हैं अरे बेटा नहीं तुमने तो बहुत अच्छा भजन गाया है |

Moral stories in hindi

बस तुम्हारी मां जी को ही सुबह सुबह यह सुनने की आदत नहीं है वह तो सिर्फ डिस्को वीस्को सुनती रहती है कुत्ते बिल्ली की आवाज में । प्रेमा गुस्से में बोलती हो क्या आपको हमारे वेस्टर्न कल्चर के गाने कुत्ते बिल्लियों की आवाज जैसे लगते है । तो अमर बोलते हैं की प्रेमा जी , जैसे दूसरे की पत्नी को अपने घर में लाने से वाह अपनी नहीं हो जाती वैसे ही दूसरे कल्चर को अपने देश में लाने से वह अपना नहीं हो जाता है

Hindi story for kids

इतनी सब बहस होने के बाद सब अपने कमरे में चले जाते हैं। कुछ दिन बीतने के बाद प्रेमा अपने घर में किटी पार्टी का आयोजन करती है वहां पर प्रेमा की बहुत सी सहेलियां आती है। सुधा सबके लिए बहुत अच्छा खाना बनाती है । सुधा जैसे ही खाना लेकर आती है उनमें से एक औरत बोलती है अरे यह क्या प्रेमा तुम अपने घर में किसी बहू उठा लाई हो , इसकी तो गर्दन ही नहीं है। प्रेमा बोलती है अरे मैं क्या करूं इन्होंने जबरदस्ती की थी इसीलिए मैंने अमन की शादी इससे हो जाने दी लेकिन अब मैं मजबूर नहीं हूं ।

Short Moral Sories in Hindi

इससे तो मैं अपने बेटे को बहुत जल्दी छुटकारा दिला दूंगी , सुधा उनकी सारी बातें सुन लेती है और अपने कमरे में जाकर रोने लगती है , उसे रोता देख उसके ससुर उसके पास आते हैं और बोलते हैं बेटा क्यों रो रही हो। वह अपने ससुर को सारी बातें बताती है उसके ससुर बोलते हैं बेटा यह सब तो तुम्हें ऐसा ही बोलेगे लेकिन तुम्हें इनका सामना डट कर करना होगा , सुधा बोलती है ठीक है बाबूजी मैं कोशिश करूंगी

New Kahaniya

कुछ दिनों बाद प्रेमा सुधा को कार में बिठा कर कहीं पर ले जाने लगती है।  सुधा उससे पूछती है मांजी हम कहां जा रहे हैं प्रेमा जवाब देती है तुम्हें हमेशा के लिए हमसे दूर करने । सुधा यह सुनकर बोलती है मांजी आप यह क्या बोल रही है । प्रेमा बोलती है हां तुमने सही सुना है मैं तुम्हें बहुत ही घने जंगल में छोड़ दूंगी जिससे कि तुम कभी वापस ना सको। दोनों के बात करते वक्त सामने से आ रही कार से उनकी कार की टक्कर हो जाती है

Bedtime Stories in Hindi

आसपास के लोग उन्हें पास के अस्पताल में भर्ती करा देते हैं थोड़ी देर में सुधा को होश आ जाता है किंतु प्रेमा अभी भी ऑपरेशन रूम में होती हैं। अमर डॉक्टर से पूछता है की प्रेमा और सुधा कैसी हैं । डॉक्टर बोलते हैं सुधा की हालत तो ठीक है लेकिन प्रेमा को खून की जरूरत है । अमन बोलता है कि डॉक्टर आप मेरा खून मां को चढ़ा दीजिए डॉक्टर बोलते हैं कि उन्हें बी पॉजिटिव ब्लड ग्रुप की जरूरत है क्या तुम्हारा ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है अमन बोलता है नहीं डॉक्टर , डॉक्टर बोलते हैं उन्हें बी पॉज़िटिव ब्लड ही लगेगा

Small Story in Hindi

प्रेमा वहा पहुंचती है और बोलती है आप मेरा खून मां को लगा दीजिए डॉक्टर पूछते हैं क्या तुम्हारा ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है प्रेमा बोलती है नहीं डॉक्टर मुझे नहीं पता आप जांच कर लीजिए । जांच करने के बाद यह पता लगता है कि उसका ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है। अब प्रेमा को सुधा का खून चढ़ने लगता है। उसकी हालत में धीरे-धीरे सुधार आने लगता है। प्रेमा के गले में सर्जरी के कारण पट्टा लग जाता है। कुछ दिनों बाद प्रेमा की छुट्टी हो जाती है । प्रेमा को कुछ दिनों तक व्हील चेयर पर बैठने को कहा जाता है

बिना गर्दन वाली लड़की Moral Stories

Short Stories for Kids in Hindi

प्रेमा खुद से कोई काम नहीं कर सकती थी। सुधा अपनी सास की जमकर सेवा करती है हर छोटे से छोटा काम सुधा करती है यह देख कर अमन के मन में सुधा के लिए इज्जत बढ़ जाती है और शर्म के कारण वह अपनी नजरें झुका लेता है। कुछ दिनों में प्रेमा ठीक हो जाती है ,ठीक होने के बाद वह अपनी बहू से अपने किए गए बर्ताव के लिए माफी मांगती है ।

Moral Stories for Childrens in Hindi

सुधा अपनी सास से बोलती है,माजी  बड़ों के हाथ आशीर्वाद देने के लिए उठने चाहिए नाकी माफी मांगने के लिए । प्रेमा अब सुधा के साथ अच्छे से बर्ताव करती है और उस पर गर्व भी कर करती है । अब अमन और सुधा के बीच में भी सब कुछ ठीक हो जाता है और वह अपनी जिंदगी बहुत ही प्रेम से व्यतीत करते हैं

हम उम्मीद करते हैं कि आपको Bacchon Ki Kahani (बिना गर्दन वाली लड़की

) जरूर अच्छी लगी होगी | तो आप हमे अपनी राये Comment के माध्यम से जरुर दे, ताकि हम हमेशा आप सभी के लिए ऐसी और भी कहानिया ला सके, धन्यवाद |


Related Posts - 


NOTE:- All information provided on this website are fictional and informative purpose only. Our Page will not be responsible for any errors in advertising on this website.

 

Post a Comment

0 Comments